बे-ख़्याल ज़िंदगी का हाल

अक्सर मैं अपने लेख कवितओं से ख़त्म करता हूँ, भावनाओं को संबल देने की कोशिश रहती है । ऐसा पहली बार हो रहा है कि कविता पहले लिखने ...
READ MORE +

कश्मीर : स्वप्न से दुःस्वप्न तक

मन को विचलित सा कर दिया है। जी हां आपके और हमारे मन को। किसने? कश्मीर घाटी के हालातों ने। बहुत ही थका देने वाली मानसिक जद्दोजहद में...
READ MORE +